उत्तराखण्ड ऐतिहासिक तथ्य- उत्तराखंड सहित सभी सरकारी नौकरियों हेतु भर्ती परीक्षा में उपयोगी

Share:

उत्तराखण्ड ऐतिहासिक तथ्य- उत्तराखंड सहित सभी सरकारी नौकरियों हेतु भर्ती परीक्षा में उपयोगी


1. महाभारत एवं पुराणों में केदारनाथ का पौराणिक नाम- स्वर्गभूमि
2. हरिद्वार का प्राचीन नाम- मायावती या गंगाद्वार
3. धर्मग्रन्थों में उल्लेखित देवप्रयाग का नाम- सुदर्शन
4. कोसी नदी का प्राचीन नाम- कौशिकी
5. जागेश्वर का पुराना नाम- यागीश्वर
6. बैजनाथ का पुराना नाम- वैद्यनाथ
7. ऋषिकेश का पुराना नाम- कुब्जाम्रक
8. गढ़वाल-कुमाऊँ का प्राचीन नाम- ब्रह्मपुर
9.गढ़वाल क्षेत्र का प्राचीन नाम- बद्रिकाश्रम या केदारखण्ड
10. रुद्रप्रयाग का पुराना नाम- पुनाड़
11. पाली साहित्य में उत्तराखण्ड- हिमवंत
12. मुनस्यारी का पुराना नाम- तिकसेन
13. टनकपुर का पुराना नाम- ग्रास्टिनगज
14. पिथौरागढ़ का पुराना नाम- सौर
15. अल्मोड़ा का पुराना नाम- आलमनगर/ राजाओं की घाटी
16. गैरसैण का नया नाम- चन्द्रनगर
17. देहरादून का पुराना नाम- द्रोण घाटी
18.काशीपुर- गोविषाण
19. नैनीताल- त्रिऋषि सरोवर
20. कोटद्वार- मोरध्वज
21. चौकी घाट- कण्वाश्रम
22. चमोली- अल्कापुर
23. देवप्रयाग- सुदर्शन तीर्थ/ अंतरांग विषय
24. टिहरी क्षेत्र- भारद्वाज
25. वर्तमान अल्मोड़ा & नैनीताल क्षेत्र- आसेय
26. उत्तरकाशी- बाड़ाहाट
27. गोपेश्वर- गोस्थल/गोथला
28. कालसी- कालकूट/सुधनगर
29. श्रीनगर- श्रीपुर/श्रीक्षेत्र
30. नानकमत्ता- बख्शी
31. चंपावत- कमादेश
32. घनसाली- धणाक
33. विष्णुप्रयाग- नारयण भट्टारक
34. कौसानी- बलना
35. द्वाराहाट- दौरा

कोई टिप्पणी नहीं